earn money by shayari

  • Abhishek became a registered member 2 weeks ago

  • Davidkbmf became a registered member 2 weeks, 6 days ago

  • gausiya hayaat became a registered member 4 weeks, 1 day ago

  • https://t.me/ccshopvalid became a registered member 4 weeks, 1 day ago

  • Probir Roy became a registered member 4 weeks, 1 day ago

  • nidhi posted an update 1 month ago

    वफ़ा के रंगों में रंगी है हर शाम आपके लिए,
    हैं ये नज़र और हर सांस आपके लिए,
    महकते रहो आप सदा फूलों की तरह,
    है इस ज़िन्दगी की हर सुबह और हर शाम आपके लिए।

  • Vishwajeet singh became a registered member 1 month ago

  • Hearts_touchings became a registered member 1 month ago

  • बाहर से सूरज की गर्मी की तरह
    अंदर से बारिश की बूंदो की तरह
    क्या बोलू उसके बारे में..वो तो हैं
    घने बादलो में इंद्र धनुष की तरह

  • अलफ़ाज़ की शक्ल में एहसास लिखा जाता हैं
    यहाँ पानी को भी प्यास लिखा जाता हैं
    मेरे ज़ज़्बात से वाकिफ हैं मेरी कलम,
    मैं प्यार लिखू तो तेरा नाम लिखा जाता हैं

  • जब यार मेरा हो पास मेरे, मैं क्यूँ न हद से गुजर जाऊँ,
    जिस्म बना लूँ उसे मैं अपना, या रूह मैं उसकी बन जाऊँ।
    लबों से छू लूँ जिस्म तेरा, साँसों में साँस जगा जाऊँ,
    तू कहे अगर इक बार मुझे, मैं खुद ही तुझमें समा जाऊँ।

  • चलते चलते राह में उनसे पहली मुलाकात हुई,
    वो कुछ शरमाई फिर सहम सी गई,
    दिल तो हमारा भी किया कि कह दे उनसे
    अपने दिल की बात…
    पर कम्बखत इस दिल की इतनी हिम्मत ही न हुई.

  • Nagla posted an update 2 months, 1 week ago

    सोचा था तड़पायेंगे हम उन्हें,

    किसी और का नाम लेके जलायेगें उन्हें,

    फिर सोचा मैंने उन्हें तड़पाके दर्द मुझको ही होगा,

    तो फिर भला किस तरह सताए हम उन्हें।

  • Nagla posted an update 2 months, 1 week ago

    Mahfil me ijhaar e mohabbat Nahi Kiya karte
    Khuleaam fariyaado Ka jikra Nahi Kiya karte
    Wo nikle h bechne ko, mohabbat baazar me meri
    Ishq e khuda Ka Yun baazar Nahi Kiya karte.

  • Nagla became a registered member 2 months, 1 week ago

  • Jaani became a registered member 2 months, 1 week ago

  • i earn 300$ this month

  • Hum to ab bhi sirf tumse hi pyar karte hai,puchna un rahon se jahan rehkr tera intjar karte hai,pr tod dete ho tum dil mera,jb bhi tumse mahobt ka ijhaar karte hai

  • तुम याद आये…

    लगी जब सावन की झड़ी तुम याद आये
    गिरी जब बूंदों की लड़ी तुम याद आये

    शाम को छत पे आकर वो जुल्फें लहराना
    देखी जब वो छत सूनी पड़ी तुम याद आये

    उन गलियों से गुजरता हूँ नज़रें झुकाकर
    आँख जब गैर से लड़ी तुम याद आये

    बाद-ए-मुलाकात करना वादा कल का मगर
    टूटी जब मिलने की कड़ी तुम याद आये

    बिन तुम्हारे जीने का तो कोई सबब न था
    जिंदगी…[Read more]

  • Load More