• Siddhesh posted an update 1 week, 5 days ago

    1 : उनकी यादें भी खूब पत्थरबाजी कर रहीं है.!
    आज मेरा हाल हु ब हु कश्मीर जैसा है.!!
    2: बहल तो जाएगा मेरा दिल,उसके वादों से लेकिन?
    चलेगी पानी में काग़ज़ की कश्ती कब तक.!!
    3: मैं रोशनी था,मुझे फैलते ही जाना था.!
    वो बुझ गए,जो समझते रहे चिराग़ मुझे.!!
    4: कभी तुम्हारा नाम,कभी सिगरेट.!
    मेरे होंठो पर हमेशा,चिंगारिया ही रही हैं.!!
    5: पहले तराशा कांच से,उसने मेरा वजूद.!
    फिर शहर भर के हाथ में,पत्थर थमा दिया.!!
    6: बहुत नाज़ था मुझे,अपने चाहने वालों पर.!
    मैं अज़ीज़ था सबको,मगर ज़रूरत के लिए.!!
    7: जरा छू लूँ तुमको,कि मुझको यकीं आ जाये!
    लोग कहते हैं मुझे साये से मोहब्बत है!!
    8: खता मत गिन,कितना गुनाह किसने किया!
    ये इश्क का नशा है,मैंने भी किया तुमने भी किया!!
    9: तेरी हालत से लगता है,तेरा अपना ही था कोई.!
    इतनी सादगी से बरबाद,कोई गैर नहीं करता.!!
    10: नफरतों को जलाओ तो,मोहब्बत की रौशनी होगी,
    इंसान तो जब भी जले हैं,राख ही हुए हैं.!!